गुरुवार, 24 मई 2012

niyam banao

हर मनुष्य ने अपने जीवन में कुछ नियम बनालेना चाहिए /यहाँ मेकुछ नियमो का विचार 
  बताने जा रहा हूँ ये नियम  अंग्रेजी ब्लॉग पिटर केनियम का भावानुवाद है /इन्ही नियमो को एक 
हिंदी ब्लॉग में संता के नियम के नाम से व्यक्त किया है/इन दोनों ब्लोगों से साभार प्रस्तुत है /
[1]यदि कुछ गलत हो सकता है तो उसे ठीक करो 
[2] जब कोइ विकल्प दिया  जाये तो सभी लेलो 
[3]एक साथ बहुत सारी योजनाओ से अधिक सफलताये 
[4]सबसे ऊपर से काम करना शुरू करो और ऊपर चलो 
[5]किताब में लिखे अनुसार काम करो परन्तु पहले किताब लिख लो 
[6]यदि समझोता करने की मज़बूरी होतो ओर मांगो 
[7]यदि आप किसी को हरा नहीं सकते तोउसमे शामिल हो जा ओ फिर हरा ओ 
 [8]यदि कुछ करनेसे कुछ हासिल होताहै तो दूसरो पर उपकार करो 
[9]यदि आप जीत नहीं सकते तो नियम बदलदो 
[10]यदि आप नियम बदल नहीं सकते तो  उनको अनदेखा करदो 
[11]यदि क ही से कोइ चुनोती नहींमिलती तो  अपने लिए एक बनाओ 
[12] नही का सीधा अर्थ है अगले उच्च स्तर से शुरुआत करना 
[13]जब आप दोड सकतेहो चलने का क्या फायदा 
[14]बाबूगिरी लालफीता शाही पर  विजय प्राप्त करनाहै तो बेवकूफ बन जाओ हाँ में हाँ मिलाओ 
[15]जब संदेह होतो सोचो 
[16]धेर्य तो वरदान है टिके रहना उससे भी बड़ा वरदान है 
[17]पहिये में आवाज है तो चेक  करो की दुसरे भी  चल रहे है या नहीं 
[18]जितने जल्दी चलोगे समय उतना धीरे धीरे पास होगा 
                    ये नियम अपने  स्वार्थ के लिए है 

1 टिप्पणी:

  1. अच्छी सलाहें हैं। लेकिन लेख में शब्द कुछ टूटे-टूटे से दिख रहे हैं। उन्हें ठीक कर लीजिये तो पढने में आसानी होगी।

    उत्तर देंहटाएं